Skip to main content

Posts

Showing posts from April, 2017

Featured this week

ISKCON Gita is distorted

There must be over a thousand translations of Bhagwad Gita. Each one is biased in some way. But Gita by ISKCON is pretty distorted in interpretation. It not only suggests that God is strictly male, it also mixes up Hindu mythology to confuse ordinary people like me. It just serves followers of Lord Vishnu and declares everyone else is a demi god. That includes Lord Shiva, and Mother Kali as well.


I have read few versions of Gita to understand the ways of God, assuming God is one and addressed by different names. But the ISKCON Gita by Prabhupada is misleading and deliberately confusing. As I have asked before too, who named God?
The polytheism in Hindutva is just to allow you to choose and pray to a form of God that you like most. The images and idols in Hinduism are symbolic. But according to ISKCON, if you are praying to any form of God other than Krsna (Krishna), you are not praying to God.
I don't think I can accept it as it is. It's highly biased and makes me assume ISKC…

Your English vs My Hinglish

It sounds so stupid when both of you know the local dialect well & yet choose to converse in English. English is not bad. It's good that you know a language that'll help you communicate anywhere on this planet. Sign language is much difficult & less recognized.

But when you make it a prestige issue?! Ah, Aargh. Talking in English doesn't make you an intellectual. Nor does my broken English make me an idiot. It just feels odd that you are practising your English vocabulary with me, especially when I am more comfortable in Hindi. I'd like to enhance my Hindi vocabulary. Give me a chance if you can. No? OK.

It amuses me? No. It hurts to see parents talking to their newborn in English so that the baby picks up the language early in its life. But what's the use if you don't teach manners to the baby; if you never step outside because your neighbors are bad at English, & you restrict the Internet so that your toddler doesn't start using Hinglish in p…

आखिर पाकिस्तान हमारा दुश्मन क्यों है?

हमारे यहाँ ही नही, दुनियाभर में सिस्टम बच्चों को यही सिखाती आईं हैं के किसको प्यार करना है, कितना प्यार करना है और कब प्यार करना है।

हम पैदा समझदार होते हैं लेकिन हमें स्कूल भेजा जाता है ताकि हम जान पायें की हमारा धर्म सर्वश्रेष्ठ है और दूसरों का धर्म बेकार। हमारे मन मे अलग अलग भय बैठा दिया जाता है ताकि बड़े होकर हम भी उसी सिस्टम का भाग बने।

यह धर्म और जाति तक ही सीमित नही होता। हमे बताया जाता है हमें किन देशों को पसंद करना है और किससे नफरत। हम भूल जाते हैं कि अगला भी इन्सान है। हमारी उनके प्रति नफरत हमें यह सोचने भी नही देती की अगले ने हमारा क्या बिगाड़ा।

वो तो स्कूल और मीडिया ने कहा दिया कि पाकिस्तान हमारा दुश्मन है। क्या सचमुच वहां रह रहे लोगों ने अपना कुछ बिगाड़ा है? वे भी उसी सिस्टम का शिकार हैं। उन्हें बताया गया कि हिंदुस्तान उनके लिए खतरा है।

सिस्टम क्या है? इसके पीछे कौन हैं? क्यों हमे हर पल, हर घड़ी गुमराह किया जा रहा है? इसका उत्तर कभी और दूंगा। अभी इतना जान लीजिए के politicians और media भी उसी सिस्टम का शिकार है। चाह कर भी निर्णय नही ले पाते क्योंकि नमक का हक अदा करना है... और…

सेकुलर बनाम तुष्टिकरण - भाई जागो, क्यों 18वी सदी में रहना चाहते हो?

कई सारे देशों का कॉपी पेस्ट है भारतीय संविधान। इसीलिए कुछ भी (नहीं) सही है। एक लाइन जिस बात को recommend करती है, दूसरी लाइन उसे ही prohibit करती है। ऐसे में जनता को झांसा देना (आसान) है। 1952 में तो ज़ल्दी थी।

अब बैठ कर इत्मीनान से नया संविधान लिखा जाये। और उसमें पहले secular का मतलब बदला जाये। पहले सेक्युलर शब्द में से तुष्टिकरण हटा दिया जाये। रिजर्वेशन व कोटा बाद में।

तुष्टिकरण के चलते बंगाल भी कश्मीर बन गया। तुष्टिकरण के कारण रोज केरल में RSS कार्यकर्ता मारे जा रहें है। और सरकार किसी की भी हो, इस सब से उनका कुछ लेना देना नहीं है। वो तो बस अगले चुनाव की तैयारियों में रहती हैं हमेशा।

यहाँ एक्शन भी वोटबैंक के हिसाब से लिया जाता है। कश्मीर में जवानों के हाथ पाँव बांध दिए और बंगाल में ममता को खुली छूट दे रखे हैं कि पुलिस अब हिन्दू उत्सवों पर समुदाय विशेष के लोगों पर लाठियां बरसाती है। उनके प्रार्थनास्थल से घंटियाँ तक छीन लीं जातीं हैं। उधर तमिलनाडु अपने को अलग राष्ट्र ही समझता है। किसी actor-turned-politician ने united states of south का जिम्मा ले लिया है।

काट दो। उधर से कश्मीर, इधर स…

Will you want to become Cyberorg? Neuralink aims just at that

Cyberorgs refer to living things that have enhanced abilities due to a computer chip in their brain. The living things could be humans or animals. Right now, there are few human cyberorgs and several lab animal cyberorgs.

Cyberorgs can also be biologically grown bodies containing an artificial brain populated with thoughts and ideas of a human body long dead/deceased. Wait. What? Doesn't that mean life after death? Yes, exactly!

Elon Musk... the same guy working on electric cars in Tesla Motors, transportation in Hyperloop, an elevator to the moon in SpaceX etc has bought a startup. This new venture is named Neuralink. Now what it does is something you've only seen in movies or read in science fiction books.

Neuralink is into creating Cyberorgs. The first thing it is working on is, to enhance qualities of humans by planting a chip into their brains. It is risky. The surgeon has to cut a part of skull to reach brain and then operate on brain to join its nerve centers to an ext…